जयपुर उच्च न्यायालय में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन




जयपुर। वरिष्ठ न्यायाधीश एवं राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री के.एस. झवेरी ने शनिवार को यहां उच्च न्यायालय में आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत का दीप प्रज्जवलित कर उद्घाटन किया। इस मौके पर राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायाधीश सर्व श्री बनवारी लाल शर्मा, श्री मोहम्मद रफीक, श्री महेश चन्द शर्मा, श्री मनीष भण्डारी, श्री पी.के. अग्रवाल श्री पंकज भण्डारी, श्री अजय रस्तोगी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी एवं कर्मचारी व अनेक अधिवक्ता उपस्थित थे।

राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं वरिष्ठ न्यायाधीश श्री के.एस. झवेरी ने इस अवसर पर कहा कि इस वर्ष में यह द्वितीय राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है और आज के दिन प्रदेशभर में उच्च न्यायालय एवं उनके अधिनस्थ न्यायालय तहसील स्तर तक राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। जिसका आमजन अधिक से अधिक लाभ उठाएं।

श्री झवेरी ने बताया कि प्रदेशभर में आयोजित की जार रही राष्ट्रीय लोक अदालत में लगभग 2 लाख मुकदमे सूचीबद्ध किये गए प्रकरणों को उनकी प्रकृति के आधार पर चिन्हित किया है। जिनमें पेंशन, सेवार्निवृत लाभ, एन.आई एक्ट के मामले, पारिवारिक मामले, औद्योगिक मामले, मोटर दुर्घटना तथा जेडीए से संबंधित विवाद, पेरोल व प्रि लिटीगेशन आदि से संबंधित प्रकरणों को सम्मिलित किया गया है। जिनमें से अधिकतर मामलों का निस्तारण होने की पूरी-पूरी संभावना है।

उन्होंने बताया कि जयपुर उच्च न्यायालय में आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में 10 बेंचों का गठन किया जा कर सभी न्यायाधीश सुनवाई करेंगे एवं आपसी समझाईश एवं राजीनामे के आधार पर अधिक से अधिक प्रकरणों का निस्तारण करेंगे। श्री झवेरी ने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत फैसला अन्तिम फैसला होता है इसकी कहीं भी अपील नहीं होती इसका अधिक से अधिक आमजन लाभ उठाने के साथ आयोजित हो रही राष्ट्रीय लोक अदालत का व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार अति आवश्यक है।

राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के सदस्य सचिव श्री एस.के जैन ने बताया कि 8 अप्रेल को पूरे देश में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि राज्य में पूर्व में 11 फरवरी को आयोजित कि गई राष्ट्रीय लोक अदालत में प्रदेशभर में हजारों मुकदमों का निस्तारण किया गया जिसका आमजन ने लाभ उठाया।  उन्होंने बताया कि शनिवार को जयपुर उच्च न्यायालय परिसर में आयोजित कि जा रही राष्ट्रीय लोक अदालत में 2 हजार 500 मुकदमे तथा जौधपुर उच्च न्यायालय में 3 हजार 600 मुकदमे निस्तारण के लिए चिन्हित किये गये है।