पीएम मोदी ने बांग्लादेश को 450 करोड़ डॉलर कर्ज़ देने की घोषणा की, दोनों देशों के बीच 22 समझौते
नई दिल्ली। भारत और बांग्लादेश के बीच करीब 22 समझौते हुए हैं. इसमें कोलकाता से खुलना के बीच एक रेल और दो बस सेवा शामिल है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने साझा बयान जारी करके इन समझौते की जानकारी दी है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने इससे पहले ट्वीट किया - भारत, बांग्लादेश संबंधों में एक नया अध्याय. प्रधानमंत्री मोदी ने वार्ता से पहले बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना का हैदराबाद हाउस में स्वागत किया.
साझा बयान जारी करने के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि बांग्लादेश को 450 करोड़ डॉलर कर्ज़ देने की घोषणा की. साथ ही कहा कि दोनों देश आर्थिक मुद्दों पर मिलकर आगे बढ़ेंगे. पड़ोसी देश को बिजली सप्लाई बढ़ाने की बात भी पीएम मोदी ने की है. उन्होंने कहा है कि इसके साथ ही बांग्लादेश के साथ दोस्ती का नया अध्याय शुरू हो गया है. पीएम मोदी ने कहा कि - हम हमेशा बांग्‍लादेश की समृद्धि चाहते हैं और जरूरी है कि दोनों देश साथ मिलकर आतंकवाद का मुकाबला करें. पीएम मोदी ने उम्मीद जताई कि तीस्ता जल विवाद जल्द सुलझेगा.
मोदी ने शुक्रवार को हवाईअड्डे पर शेख हसीना की अगुवाई की थी. वह भारत के चार दिवसीय दौरे पर हैं. पिछले सात सालों में यह शेख हसीना का पहला भारत दौरा है. वह इससे पहले जनवरी 2010 में भारत आई थीं. इस दौरे के दौरान मोदी, हसीना के सम्मान में भोज की मेजबानी करेंगे, जिसमें पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी शामिल होंगी. दोनों राष्ट्र प्रमुख 1971 के बांग्लादेश स्वतंत्रता युद्ध के शहीदों के सम्मान में होने वाले कार्यक्रम में भी हिस्सा लेंगे.
ढाका-कोलकाता बस सेवा शुरू
पीएम मोदी ने कहा कि भारत लगातार बांग्लादेश के साथ सहयोग करता रहेगा. इस दौरान उन्होंने बांग्लादेश को 50 करोड़ डॉलर के कर्ज की भी घोषणा की. मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ जीरो टोलरेंस की नीति की भी जमकर सराहना की. पीएम ने कहा कि हमें अपने कारोबार में विविधता लाने की जरूरत है. वहीं, शेख हसीना ने कहा कि हम दोनों देश की सीमा को सुरक्षित बनाना चाहते हैं. उन्होंने आतंकवाद को जड़ से उखाड़ फेकने की भी बात कही. इस दौरान ढाका-कोलकाता बस सेवा की भी घोषणा की गई. शनिवार सुबह बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना राष्ट्रपति भवन पहुंचीं, जहां उनको गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. इसके बाद हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री मोदी ने शेख हसीना से मुलाकात की.