विश्व टीबी दिवस


  • हर वर्ष 24 मार्च को विश्व टीबी/तपेदिक/क्षयरोग दिवस मनाया जाता है। यह दिवस लोगों में टीबी रोग को समाप्त करने तथा इसके स्वास्थ्य, सामाजिक और आर्थिक परिणामों के बारे में जागरूकता और समझ विकसित करने के लिए मनाया जाता है। साथ ही इस रोग की रोकथाम करना है। टीबी दुनिया के सबसे घातक संक्रामक हत्यारों में से एक है।
  • जर्मन फिजिशियन और माइक्रोबायोलॉजिस्ट डॉ. रॉबर्ट कोच Dr Robert Koch ने इस दिन वर्ष 1882 में टीबी के बैक्टीरिया माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरक्लोसिस की खोज की थी, जिसके कारण टीबी रोग होता है।
  • इस खोज के लिए उन्हें 1905 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

World TB Day 2022 की थीम: 

  • “Invest to End TB. Save Lives.”
  • 18 जनवरी, 2022 को जिनेवा, स्विट्जरलैंड में वर्ष 2022 के लिए विश्व टीबी दिवस की थीम 'टीबी को समाप्त करने के लिए निवेश करें, जीवन बचाएं।' साझा की गई।

विश्व तपेदिक दिवस 2021 की थीम

  • 'जल्दी करें, क्योंकि समय शीघ्रता से गुजर रहा है।'(The clock is ticking)
  • टीबी से हर दिन दुनियाभर में 4100 से अधिक लोग मर जाते हैं और लगभग 30 हजार लोग टीबी रोग से ग्रसित हो जाते हैं।
  • इसका इलाज किया जा सकता है। 

टीबी के लक्षण

  • 3 हफ्ते से ज्यादा खांसी आना।
  • खांसी के दौरान बलगम के साथ खून आना।
  • वजन में निरंतर कमी आना।
  • कम भूख लगना
  • बुखार का विशेषकर शाम के समय आना।
  • सांस लेने में परेशानी होना
  • छाती में दर्द

बचाव

  • हवा से फैलने वाली संक्रामक बीमारी है,
  • 3 हफ्ते से अधिक समय तक खांसी रहने पर सरकारी अस्पतालों में नि:शुल्क बलगम की जांच करवाएं।
  • डॉट्स पद्धति से इलाज कराएं, जो 6 से 8 महीने चलता है।
  • बच्चों के जन्म से एक माह के अंदर बीसीजी का टीका लगवाएं।
  • रोगी खांसते व छींकते समय मुंह पर रूमाल रखें

राष्ट्रीय क्षयरोग नियंत्रण कार्यक्रम (एनटीईपी)

  • यह स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा देश में टीबी की रोकथाम और नियंत्रण के लिए कार्यक्रम है। इसमें वर्ष 2025 तक भारत में टीबी नियंत्रण और उन्मूलन के लिए 'क्षयरोग वर्ष 2017-25' (एनएसपी) के लिए 'राष्ट्रीय रणनीति योजना' जारी की है।
  • एनएसपी टीबी उन्मूलन के अनुसार 'पता लगाना (डिटेक्ट)-उपचार करना (ट्रीट)-रोकथाम (प्रिवेंट)-निर्माण (बिल्ड)' (डीटीपीबी) को चार रणनीतिक स्तंभों में एकीकृत किया गया है।
  • वर्ष 2025 तक टीबी उन्मूलन के लिए आह्वान किया गया है, जिसे संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) से पांच वर्ष पहले ही प्राप्त करने का लक्ष्य रखा गया है।