Mission Buniyad

5 सितम्बर, 2022 को शिक्षक दिवस के अवसर पर राजस्थान के शिक्षा मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला ने राज्य के स्कूली बच्चों के लिए मिशन ‘बुनियाद’ कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।

मिशन बुनियाद कार्यक्रम

  • यह एक डिजिटल लर्निंग कार्यक्रम है।
  • इसमें प्रत्येक विद्यार्थी के समझने की क्षमता के आधार पर उसे व्यक्तिगत पढ़ने की सामग्री, सॉफ्टवेयर द्वारा प्रदान की जाती है। जिससे बच्चे स्वयं अपना मूल्यांकन कर सकते हैं।

उद्देश्य

  • इस कार्यक्रक का मुख्य उद्देश्य विद्यालयों का डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करके, विद्यार्थियों की सीखने की क्षमता बढ़ाना, जेंडर गैप कम करना, ड्रॉप आउट रेट कम करना है।

पायलट प्रोजेक्ट  

  • इस कार्यक्रम की शुरूआत दिसम्बर, 2020 में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में 6 जिलों उदयपुर, सिरोही, भीलवाड़ा, सीकर, धौलपुर और करौली में की गई थी। इन जिलों से कक्षा 8 से 12 तक के 24,360 विद्यार्थी प्रोजेक्ट में शामिल हुए और उनके सीखने की क्षमता में औसतन 16 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई।
  • इस प्रोग्राम के प्रारंभ होने से इसके माध्यम से प्रदेश के लगभग 20 लाख विद्यार्थियों को उच्च गुणवत्ता वाली डिजिटल शिक्षा प्राप्त हो सकेगी।
  • मिशन बुनियाद को राजस्थान सरकार द्वारा चिल्ड्रन इन्वेस्टमेंट फंड फाउंडेशन (CIFF), कैवल्या एजुकेशन फाउंडेशन (पीरामल फाउंडेशन), जी.डी.आई. पार्टनर्स तथा कॉन्वेजीनियस के सहयोग से शुरू किया गया है। यह कार्यक्रम भारत का सबसे बड़ापर्सनलाइज्ड एडाप्टिव लर्निंग (P.A.L.) कार्यक्रम है।  

Important Question 


राजस्थान में डिजिटल लर्निंग मिशन 'बुनियाद' की शुरुआत कब हुई?
- 5 सितम्बर,2022 को शिक्षक दिवस के अवसर पर 

राजस्थान में डिजिटल लर्निंग मिशन 'बुनियाद' का पायलट प्रोजेक्ट कब शुरू हुआ?
- दिसम्बर, 2020 में 

राजस्थान में डिजिटल लर्निंग मिशन 'बुनियाद' का पायलट प्रोजेक्ट किन जिलों में शुरू किया गया?
-6 जिलों उदयपुर, सिरोही, भीलवाड़ा, सीकर, धौलपुर और करौली में 

डिजिटल लर्निंग मिशन 'बुनियाद' कार्यक्रम कौनसी कक्षा तक के लिए है? 
-कक्षा 8 से 12 तक