जयपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को राजस्थान के बाड़मेर जिले के पचपदरा में देश की पहली इको-फ्रेंडली रिफाइनरी के कार्य का शुभारंभ किया. इस कार्यक्रम के दौरान राज्य की सीएम वसुंधरा राजे और केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के अलावा केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री और बीकानेर से सांसद अर्जुन राम मेघवाल, गजेंद्र सिंह शेखावत, पीपी चौधरी मौजूद रहे.  केंद्र सरकार के उपक्रम और राज्य सरकार के साझा प्रयासों से बनने वाली ये रिफाइनरी 4 वर्षों में बनेगी. इस रिफाइनरी को हिन्दुस्तान पेट्रोलियम और राजस्थान सरकार मिलकर बना रही है. ऐसा अनुमान है कि इस रिफाइनरी सह पेट्रोकेमिकल परिसर की सालाना क्षमता 90 लाख मैट्रिक टन होगी. रिफाइनरी के शुभारंभ के बाद पीएम मोदी ने जनसभा को संबोधित किया और साल 2013 में इस परियोजाना का शिलान्यास करके इसे ठंडे बस्ते में डालने वाली तत्कालीन कांग्रेस सरकार पर भी निशाना साधा.


पीएम मोदी ने कहा 'खम्मा घणी'
अपने संबोधन की शुरुआत प्रधानमंत्री मोदी ने राजस्थानी भाषा में नमस्कार के साथ की. पीएम मोदी ने कहा, 'खम्मा घणी'. पीएम मोदी ने कहा कि मकर संक्रांति के बाद खुशहाली का आना तय होता है आज मकर संक्रांति के दो दिन बाद इसकी शुरुआत हो चुकी है.

संतो की धरती को किया प्रणाम
मैं सीएम वसुंधरा राजे जी को, धर्मेंद्र प्रधान जी को और राजस्थान वासियों को शुभकामनाएं देता है. पीएम मोदी ने कहा कि बाड़मेर की यह धरती संतों की धरती है. मैं इस धरती को नमन करता हूं. पचपदरा की यह धरती स्वाधीनता सेनानियों की कर्मभूमि रही है. इस क्षेत्र में पीने का पानी और ट्रेन लाने में, पहला कॉलेज खोलने में गुलाब चंद जी को हर कोई याद करता है. मैं पचपदरा के इस सपूत को याद करता हूं.

यह समय संकल्प से सिद्धि का समय है
पीएम मोदी ने कहा कि यह राजस्थान को ऊर्जावान बनाने की अहम शुरुआत है. पीएम मोदी ने कहा कि केवल पत्थर लगाने से लोगों को गुमराह नहीं किया जा सकता है. काम के शुरू होने के बाद ही जनता में विश्वास जगाया जाता है. पीएम मोदी ने कहा कि यह समय संकल्प से सिद्धि का समय है, आज आपने संकल्प लिया है कि 2022 तक इस रिफाइनरी का कार्यारंभ कर दिया जाएगा. मुझे विश्वास है कि देश जब आजादी के 75 साल मनाएगा तब यहां से देश को नई ऊर्जा मिलना प्रारंभ हो जाएगा.

कांग्रेस और अकाल जुड़वा भाई
पीएम मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस के स्वभाव में है जनता को गुमराह करना. पीएम मोदी ने कहा कि राजस्थान में मैंने लोगों से सुना है कि अकाल और कांग्रेस जुड़वा भाई है. जहां कांग्रेस जाती है वहां अकाल आ जाता है. बड़ी-बड़ी बातें करना लोगों को धोखा देना कांग्रेस की कार्यशैली है. कांग्रेस ने केवल बाड़मेर में ही जनता की आंखों में धूल नहीं झोंकी है. जो लोग रिसर्च करना चाहते हैं वह देख सकते हैं कि कहां-कहां ऐसा किया गया है. कांग्रेस के राज में रेलवे की 1500 योजनाएं पूरी नहीं हुई.

OROP पर कांग्रेस ने सैनिकों को दिया धोखा
​कांग्रेस ने पूर्व सैनिकों के साथ भी धोखा किया. वन रैंक वन पेंशन लागू नहीं किया. कांग्रेस ने ओआरओपी के लिए 500 करोड़ रुपये लागू करने की बात कही थी. लेकिन ओआरओपी के आंकड़े जुटाने में उन्हें डेढ़ साल लग गया. पीएम मोदी ने कहा कि बाड़मेर रिफाइनरी तो कागजों पर आ गई लेकिन ओआरओपी कागजों पर भी नहीं आ सका. पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने 500 करोड़ की बात की थी हमने 12 हजार करोड़ दिया.

भैरों सिंह शेखावत को किया याद, जसवंत के लिए प्रार्थना
पीएम मोदी ने कहा कि मैं इस धरती पर भैरों सिंह शेखावत जी को भी याद करना चाहता हूं. आधुनिक राजस्थान बनाने के लिए मैं शेखावत जी को नमन करता हूं. पीएम मोदी ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता जसवंत सिंह के लिए भी प्रार्थना की. पीएम मोदी ने कहा कि हम सभी को उनके अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना करनी चाहिए.

दलपत सिंह शेखावत के बलिदान को सलाम
पीएम मोदी ने कहा कि इजरायल के पीएम इन दिनों भारत की यात्रा पर आए हुए हैं. देश आजाद होने के बाद मैं पहला पीएम था जो इजरायल की धरती पर गया. मेरे राजस्थान के वीरों आपको गर्व होगा कि जब मैं इजरायल गया तो समय की व्यस्थता के बीच भी मैं हाइफा गया और वहां जा करके प्रथम विश्व युद्ध में हाइफा को आजाद कराने में जिन वीरों ने बलिदान दिया उनको नमन किया. राजस्थान की धरती के वीर मेजर दलपत सिंह शेखावत ने इसमें नेतृत्व किया. दिल्ली में तीन मूर्ति में एक मूर्ति दलपत सिंह शेखावत की है. प्रधानमंत्री ने कहा कि राजस्थान वीरों की धरती है, इतिहास में कोई ऐसी घटना नहीं रही होगी जिसमें इस धरती का योगदान ना रहा हो. मैं इस वीरों की धरती को प्रणाम करता हूं. हमें राजस्थान को आगे लेकर जाना है.

HPCL राजस्थान रिफाइनरी लिमिटेड होगा नाम
43,129 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से बनने वाली आधुनिक रिफाइनरी के लिये 17 अगस्त को राजस्थान सरकार तथा सार्वजनिक क्षेत्र की हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) के बीच समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किए गए थे.  समझौते के मुताबिक संयुक्त उद्यम कंपनी का नाम ‘एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी लिमिटेड’ होगा जिसमें एचपीसीएल की 74 प्रतिशत और राजस्थान सरकार की 26 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी. पर्यावरण अनुकूल तकनीक वाली यह रिफाइनरी भारत मानक-6 दर्जे के पेट्रोलियम उत्पादों को तैयार करने वाली देश की पहली रिफाइनरी होगी.