मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने प्रदेशवासियों तक विभिन्न योजनाओं का लाभ सरलता, सुगमता और पारदर्शी तरीके से पहुंचाने के उद्देश्य से 'एक नम्बर, एक कार्ड, एक पहचान' के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए जन आधार योजना का शुभारंभ 18 दिसंबर, 2020 को किया।

क्या है जन आधार कार्ड



  • जन आधार कार्ड के तहत जन सांख्यिकीय एंव सामाजिक आर्थिक सूचनाओ का डाटाबेस तैयार कर प्रत्येक परिवार को 'एक नंबर, एक कार्ड, एक पहचान' के लिए 10 अंकों का नंबर जारी किया जाएगा। यह कार्ड बनने के बाद अलग-अलग कार्ड बनवाने की जरूरत नहीं रहेंगी। यह कार्ड राशन कार्ड, भामाशाह कार्ड की जगह लेगा यानि हम कह सकते है इन सभी कार्डों का लाभ अब एक हीं कार्ड से उठाया जा सकता है।


जन आधार कार्ड योजना के लाभ



  • राशन कार्ड से मिलने वाली सुविधाओं का लाभ जन आधार कार्ड से मिल सकेंगा ।
  • पेंशनकर्मियों को हर साल जीवित प्रमाण पत्र बनवाना पड़ता था, अब नहीं योजना के तहत यह प्रमाण पत्र हर साल नहीं बनवाना पड़ेगा।
  • परिवार के प्रत्येक सदस्यों का नाम आटो एड हो जाएगा । बार-बार नाम जुड़वाने की जरूरत नहीं होगी।
  • जन आधार कार्ड एक परिवार की एक पहचान बनेगा यानि एक कार्ड, एक नम्बर, एक पहचान।
  • ई-कॉमर्स और बीमा सुविधाओं का लाभ भी इसी कार्ड से मिले पाएगा।


जन आधार कार्ड की मुख्य बातें



  •  भामाशाह कार्ड की तरह यह कार्ड भी महिला के नाम से बनेगा ।
  •  अगर किसी परिवार में महिला नहीं है तो पुरूष के नाम से भी जन आधार कार्ड बनाया जा सकता है ।
  • इस कार्ड में परिवार के सभी सदस्यों को जोड़ा जाएगा ।
  • जन आधार कार्ड में आपको 10 अंक का पंजीयन नम्बर दिया जायेगा।
  • जिसका भामाशाह कार्ड पहले से बना हुआ है उसे जन आधार कार्ड बनवाने की जरूरत नहीं है। उस परिवार को मोबाइल नम्बर पर SMS मैसेज या फोन करके 10 अंक का पंजीयन नम्बर भेजा जायेगा।
  • जिस परिवार का भामाशाह कार्ड नहीं बना हुआ है उसे ही नया कार्ड जन आधार कार्ड बनवाना होगा।