• देश में कोरोना महामारी ने लोगों का जीवन थाम दिया था, सिर्फ कोरोना के इलाज की बातें होती थी और अन्य सामान्य बीमारियों के के इलाज के लिए किसी भी राज्य में ध्यान नहीं दिया गया, लेकिन इस मामले में राजस्थान में प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में राज्य सरकार ने बेहतरीन नवाचार का परिचय देते हुए महत्वपूर्ण कदम उठाए, जो काफी सराहनीय रहे।
  •  कोविड-19 महामारी की रोकथाम के साथ ही मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने आमजन को सामान्य बीमारियों के इलाज के लिए चिकित्सा विभाग ने  22 अप्रैल,2020 को 400 मोबाइल मेडिकल वैन शुरू की, जिन्हें बढ़ाकर अब 750 कर दिया है और ये मेडिकल मोबाइल वैन राज्य के उपखण्ड मुख्यालयों के साथ ही अन्य महत्वपूर्ण स्थानों और गांव-कस्बों तक पहुंचकर आमजन के लिए सामान्य बीमारियों के इलाज की सुविधा उपलब्ध करवा रही है।
  • अपने प्रदेश की जनता को कोविड-19 से बचाने के साथ ही  लॉकडाउन एवं कर्फ्यूग्रस्त क्षेत्रों में सामान्य बीमारियों के इलाज के लिए मोबाइल मेडिकल वैन के माध्यम से चिकित्सकीय सेवाएं शुरू की गई।

इन सामान्य बीमारियों का हो रहा इलाज


  • इन बीमारियों में खांसी, जुकाम, बुखार, डायबिटीज और हाइपरटेंशन आदि की जांच एवं उपचार के साथ ही गर्भवती महिलाओं की एएनसी जांच उपलब्ध करवाई जा रही है। सरकार के इस नवाचार से आमजन को कोरोना संकटकाल में चिकित्सा सुविधाएं मिल रही हैं और जो उनके लिए वरदान साबित हो रही है।
  • समय:  सुबह 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक
  • प्रतिदिन 25000 से ज्यादा लोग उपचार का लाभ ले रहे हैं।
  • अब तक करीब 20 लाख से अधिक लोगों को मिली चिकित्सा सुविधा
  • इन मोबाइल वाहनों में लाउडस्पीकर की व्यवस्था भी की गई है ताकि घरों में रह रहे लोगों को इसकी सूचना आसानी से मिल सके।
  •  वैन में नियुक्त चिकित्सक व पैरामेडिकल स्टाफ सोशल डिस्टेंसिंग के साथ लोगों को चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध करवा रहे हैं।

निःशुल्क दवा और जांच सुविधा

  • प्रदेश में संचालित सभी मोबाइल मेडिकल वैन पर हीमोग्लोबिन जांच, वनज जांच, प्रेग्नेंसी टेस्ट, मलेरिया जांच, ब्लड शुगर की जांच की जा रही हैं। हाइपरटेंशन, किडनी, डायबिटीज, खांसी, जुकाम और बुखार आदि के मरीजों को उनके निवास के नजदीक चिकित्सा सुविधा व दवाएं उपलब्ध करवाई जा रही है। इसके अलावा बच्चों और गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण भी किया जा रहा है। इस दौरान निशुल्क जांच एवं निशुल्क दवा वितरण सेवाओं से मरीजों को लाभान्वित किया जा रहा है।
  • इस दौरान सभी व्यवस्थाओं की बेहतर मॉनिटरिंग, स्टाफ के कार्यों की रिपोर्ट प्रतिदिन निदेशालय, जयपुर भेजी जाती है। इसमें और अधिक सुधार के लिए नियुक्त नोडल अधिकारी व उनकी टीम हमेशा तत्पर रहती है।
  • मोबाइल वैन से प्रदेश की आमजन को अपने नजदीक चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की मुहिम बहुत ही अच्छा कदम है जो न केवल सामान्य बीमारियों का इलाज उपलब्ध करवा रही है, साथ ही कोरोना से आमजन को बचा रही है। आमजन को छोटी-मोटी बीमारियां जैसे खांसी-जुकाम होने पर इधर—उधर भटकना नहीं पड़ रहा और न ही शहरों में जाना पड़ रहा है। हाल में इन वैनों के माध्यम से आमजन को और अधिक राहत देने के लिए नि:शुल्क दवाएं व जांच योजना की सुविधा उपलब्ध करवाने के निर्देश देना जनहित में है।