वर्ल्ड क्राफ्ट काउंसिल द्वारा वर्ष 2016 में जयपुर शहर की हवेलियों, झरोखों, गेट पर हस्तशिल्प कार्य, पेटिंग, भित्ती चित्र आदि के साथ—साथ जयपुर शहर में विभिन्न प्रकार के किये जा रहे हस्तशिल्प कार्यों के कारण 'वर्ल्ड क्राफ्ट सिटी' घोषित किया गया है।


राज्य सरकार द्वारा शिल्पकला के विकास एवं हस्तशिल्पियों के उत्थान को ध्यान में रखते हुए पहली बार 'राजस्थान निवेश प्रोत्साहन योजना—2019 में 'हेण्डीक्राफ्ट सेक्टर' को 'थर्स्ट सेक्टर्स' में सम्मिलित करते हुए अतिरिक्त परिलाभों हेतु पात्र माना गया है।