टोंक में Multipurpose Indoor (बहुउद्देशीय इंडोर) स्टेडियम बनाया जायेगा।
जोधपुर में शारीरिक शिक्षा महाविद्यालय का विस्तार एवं उन्नयन कराया जाएगा।
खेल विभाग के अंतर्गत राजस्थान स्टेट स्पोर्ट्स इन्स्टीट्यूट की स्थापना की जाएगी।
जोधपुर में 10 करोड़ रुपये की लागत से Rajasthan High Performance Sports Training and Rehabilitation Center बनाया जायेगा।
सवाई मानसिंह स्टेडियम, जयपुर व महाराणा प्रताप खेलगांव, उदयपुर में सिन्थेटिक एथलेटिक ट्रेक का निर्माण करवाया जायेगा
राजगढ़ (सादुलपुर), चूरू में कबड्डी अकादमी तथा श्रीगंगानगर में एथलेटिक्स अकादमी के भवन का निर्माण किया जायेगा
चौरासी (डूंगरपुर) में खेल छात्रावास का निर्माण किया जायेगा।
जयपुर व जोधपुर में 20-20 करोड़ रुपये की राशि से आवासीय पैरा खेल अकादमी स्थापित किया जाना प्रस्तावित
भरतपुर में कुश्ती/कबड्डी जैसे पारम्परिक खेलों को प्रोत्साहन के लिए स्टेडियम का विकास किया जायेगा
नावां (नागौर) एवं रावतभाटा (चित्तौड़गढ़) स्टेडियम के विकास कार्य
गिर्वा (उदयपुर), केरू (लूणी, जोधपुर), हिण्डौन (करौली), धोद (सीकर), परबतसर (नागौर), परसरामपुरा (नवलगढ़, झुंझुनूं), बानसूर (अलवर), रूपवास, उच्चैन (भरतपुर), तारानगर (चूरू) तथा बगरू (जयपुर) में खेल स्टेडियम बनाए जायेंगे।

राजकीय कर्मचारियों को राज्य, राष्ट्रीय एवं अन्तरराष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतिस्पर्धा में भाग लेने के लिए 'On Duty' भेजा जाना प्रस्तावित है।
किसी अन्य राज्य अथवा केन्द्र सरकार में कार्यरत अधिकारी/कर्मचारी को पदक जीतने पर Pay Protect करते हुए समकक्ष पद पर राज्य में नियुक्ति दिया जाना प्रस्तावित।

पैरा खिलाड़ियों को मिलेगी नि:शुल्क भूमि

ओलम्पिक पदक विजेताओं को नि:शुल्क 25 बीघा कृषि भूमि आवंटित किये जाने वाले प्रावधान को, पैरालम्पिक खेलों के पदक विजेताओं के लिए भी लागू करने की घोषणा