यह मंदिर का दीप

रचनाकार: महादेवी वर्मा


यह मन्दिर का दीप इसे नीरव जलने दो

रजत शंख घड़ियाल स्वर्ण वंशी-वीणा-स्वर,

गये आरती बेला को शत-शत लय से भर,

जब था कल कंठों का मेला,

विहंसे उपल तिमिर था खेला,

अब मन्दिर में इष्ट अकेला,

इसे अजिर का शून्य गलाने को गलने दो!

चरणों से चिह्नित अलिन्द की भूमि सुनहली,

प्रणत शिरों के अंक लिये चन्दन की दहली,

झर सुमन अक्षत सित,

धूप-अर्घ्य नैवेद्य अपरिमित

तम में सब होंगे अन्तर्हित,

सबकी अर्चित कथा इसी लौ में पलने दो!

पल के मनके फेर पुजारी विश्व सो गया,

प्रतिध्वनि का इतिहास प्रस्तरों बीच खो गया,

सांसों की समाधि सा जीवन,

मसि-सागर का पंथ गया बन

रुका मुखर कण-कण स्पंदन,

इस ज्वाला में प्राण-रूप फिर से ढलने दो!

झंझा है दिग्भ्रांत रात की मूर्छा गहरी

आज पुजारी बने, ज्योति का यह लघु प्रहरी,

जब तक लौटे दिन की हलचल,

तब तक यह जागेगा प्रतिपल,

रेखाओं में भर आभा-जल

दूत सांझ का इसे प्रभाती तक चलने दो।



तम में बनकर दीप 

रचनाकार: कवयित्री


उर तिमिरमय घर तिमिरमय 

चल सजनि दीपक बार ले!

राह में रो-रो गये हैं

रात और विहान तेरे

कांच से टूटे पड़े यह 

स्वप्न, भूलें, मान तेरे;

फूलप्रिय पथ शूलमय 

पलके बिछा सुकुमार ले।

तृषित जीवन में घिर घन-बन;

उड़े जो श्वास उर से;

पलक-सीपी में हुए मुक्ता

सुकोमल और बरसे;

मिट रहे नित धूलि में 

तू गूंथ इनका हार ले।

मिलन वेला में अलस तू 

सो गयी कुछ जाग कर जब,

फिर गया वह, स्वप्न में

मुस्कान अपनी ​आंक कर तब।

आ रही प्रतिध्वनि वही फिर

नींद का उपहार ले!

चल सजनि दीपक बार ले!