ग्रीन एनर्जी के क्षेत्र में राजस्थान देश में अग्रणी प्रदेश बन गया है। राजस्थान सौर ऊर्जा के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है। प्रदेश में 10,560 मेगावाट सौर ऊर्जा क्षमता विकसित की जा चुकी है।

प्रदेश में 10 गीगावाट सौर ऊर्जा विकसित करने वाला राजस्थान देश का पहला प्रदेश बन गया है।

प्रदेश में नए पार्कों की स्थापना की जा रही है और राज्य में अक्षय ऊर्जा आधारित आधारभूत ढांचा विकसित हो रहा है जिसके साथ ही निवेश और रोजगार के नए अवसर सृजित हो रहे हैं।

प्रदेश में सस्ती और ग्रीन एनर्जी का उत्पादन बढ़ सकेगा।

2,245 मेगावाट क्षमता का विश्व का सबसे बड़ा सोलर पार्क राजस्थान के जोधपुर जिले के भड़ला में स्थापित किया गया है।  

नए सोलर पार्कों का निर्माण


प्रदेश के जैसलमेर एवं बीकानेर में 1800 मेगावाट क्षमता के दो नए सोलर पार्क विकसित किए जाएंगे।

केन्द्र सरकार के नवीन व नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय से स्वीकृति मिलने के बाद पहले चरण में जैसलमेर में 800 मेगावाट और बीकानेर में 1,000 मेगावाट क्षमता के सोलर पार्क विकसित किए जाएंगे।

इन दोनों पार्कों को केन्द्र सरकार की योजना के मोड 8 के तहत विकसित किया जाएगा।

अक्षय ऊर्जा निगम द्वारा 925 मेगावाट क्षमता का सोलर पार्क जैसलमेर जिले के नोख में विकसित किया जा रहा है।