• 7 जनवरी, 2022 को राजस्थान राज्य के नागौर जिले को नवाचार अपनाने के लिए 24वें नेशनल ई-गवर्नेंस अवार्ड कार्यक्रम में ‘एक्सीलेंस इन गवर्नमेंट प्रोसेस री-इंजीनियरिंग फॉर डिजिटल ट्रांसफॉरमेशन’ कैटेगरी में अवार्ड से नवाजा गया। यह अवार्ड नागौर जिले में सिलिकोसिस केयर अभियान के तहत बेहतर कार्यों के लिए दिया गया है। यह कार्यक्रम हैदराबाद में आयोजित 24 वीं राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस में प्रदान किया गया।  
  • इस अवार्ड के तहत नागौर जिला कलेक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी व उनकी टीम को पुरस्कार स्वरूप प्रशस्ति पत्र और एक लाख रुपये की राशि का चेक प्रदान किया गया।  
  • यह राष्ट्रीय स्तर का ई-गवर्नेंस अवार्ड प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय स्तर पर प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग भारत सरकार द्वारा प्रदान किया जाता है। यह पुरस्कार देश के सभी 748 जिलों में ई-गवर्नेंस पर सबसे बेहतर कार्य करने वाले को दिया जाता है। इसके तहत चार चरणों में सम्पूर्ण परीक्षण के बाद एक जटिल प्रक्रिया से जिले का चयन किया जाता है।  

क्या है अभियान सिलिकोसिस केयर

  • सिलिकोसिस रोग से पीड़ित लोगों को सरकार द्वारा प्रदत्त त्वरित सहायता राशि, पेंशन, पालनहार योजना व खाद्य सुरक्षा का लाभ दिए जाने को लेकर नागौर जिला कलक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी की ओर से अभियान 'सिलिकोसिस केयर' चलाया गया।
  • अभियान सिलिकोसिस केयर के तहत नागौर जिले में 2058 जीवित सिलिकोसिस मरीजों तथा 360 दिवंगत सिलिकोसिस मरीजों के परिजनों को सरकार द्वारा प्रदत्त विभिन्न योजनाओं का लाभ डिजिटल प्लेटफॉर्म पर एकल प्रारूप में डेटाबेस तैयार कर दिया गया। इस नवाचार को मॉडल मानते हुए पूरे प्रदेश में अभियान चलाने के निर्देश अतिरिक्त मुख्य सचिव, खान (ग्रुप-1) विभाग ने भी जारी किए थे।
  • गौरतलब है ​कि सिलिकोसिस केयर अभियान के लिए गवर्नेंस नाउ टीम की ओर से राष्ट्रीय स्तर पर डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन इन हेल्थ केयर कैटेगरी में दिए जाना वाला चौथा डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन अवार्ड-2021 नागौर जिला कलेक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी को गत नवंबर, 2021 में प्रदान किया गया था।